ताज़ा खबर
 

भारत व रूस में परमाणु सहयोग मजबूत, कुंडाकुलम परामणु बिजलीघर की दो ओर इकाइयों पर काम शुरू

कुंडाकुलम परमाणु बिजलीघर की दूसरी इकाई शनिवार (15 अक्टूबर) को राष्ट्र को समर्पित की गई जबकि दो और इकाइयों की आधारशिला रखी गई।
Author बेनालिम | October 15, 2016 23:02 pm
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से हाथ मिलाते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

कुंडाकुलम परमाणु बिजलीघर की दूसरी इकाई शनिवार (15 अक्टूबर) को राष्ट्र को समर्पित की गई जबकि दो और इकाइयों की आधारशिला रखी गई। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आपसी संबंधों पर विस्तार से चर्चा की और परमाणु क्षेत्र में सहयोग को आगे बढ़ाने पर सहमति जताई। कुंडाकुलम परमाणु बिजलीघर की दूसरी इकाई से 1000 मेगावाट बिजली बनेगी जबकि प्रत्येक नयी इकाई की क्षमता भी इतनी ही होगी। दोनों नेताओं के बीच बातचीत के बाद जारी संयुक्त बयान के अनुसार रूस ने परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत को शामिल किए जाने का मजबूती से समर्थन किया है तथा बैलेस्टिक मिसाइल प्रसार के खिलाफ हेग आचार संहिता व मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण प्रणाली से भारत के जुड़ने का स्वागत किया है। इसमें कहा गया है कि कुंडाकुलम की पांचवीं व छठी इकाई के लिए सामान्य रूपरेखा समझौते और ऋण मसौदे पर चर्चाओं में प्रगति हुई है ताकि इन दस्तावेजों को 2016 के आखिर तक अंतिम रूप दिया जा सके। कुंडाकुलम बिजलीघर की दूसरी इकाई को देश के समर्पित किए जाने तथा दो और इकाइयों की नींव रखे जाने के कार्यक्रम को मोदी व पुतिन ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए देखा।

बयान के अनुसार, ह्यरूस इस बात से सहमत है कि भारत की भागीदारी से अंतरराष्ट्रीय निर्यात नियंत्रण प्रणालियां मजबूत होंगी और इस संदर्भ में एनएसजी में सदस्यता के लिए भारत के आवेदन का स्वागत करता है और एनएसजी में भारत के शीघ्र प्रवेश के लिए अपने मजबूत समर्थन को दोहराता है।ह्ण पुतिन की उपस्थिति में मीडिया को अपने बयान में मोदी ने कहा कि कुडनकुलम 2 को समर्पित किया जाना और कुडनकुलम 3 तथा 4 की आधारशिला रखा जाना इस क्षेत्र में दोनों देशों के बीच सहयोग का स्पष्ट नतीजा है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ह्यऔर अन्य आठ रिएक्टरों के प्रस्तावित निर्माण से, परमाणु उर्च्च्जा में हमारा व्यापक सहयोग हम दोनों को काफी लाभ पहुंचाने वाला है। यह ऊर्जा सुरक्षा, उच्च प्रौद्योगिकी तक पहुंच और व्यापक स्थानीयकरण तथा भारत में विनिर्माण की हमारी जरूरत पर उपयुक्त बैठेगा।ह्ण उल्लेखनीय है कि कुंडाकुलम की पहली इकाई को मोदी व पुतिन ने 10 अगस्त को संयुक्त रूप से समर्पित किया था। पुतिन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसमें शामिल हुए थे।
बयान के अनुसार दोनों पक्षों ने ह्यपरमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण इस्तेमाल के लिए सहयोग को मजबूत बनाने के रणनीतिक दृष्टिकोणह्ण के तहत आपसी सहयोग को प्रगाढ़ बनाने पर सहमति जताई है। भारतीय पक्ष परमाणु बिजलीघर के लिए नयी जगह शीघ्र आवंटित करने की दिशा में काम कर रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 15, 2016 11:01 pm

  1. No Comments.
सबरंग