ताज़ा खबर
 

नोटबंदी के दौरान खाते में जमा किए पैसे पर देना होगा टैक्स

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय 9 नवंबर 2016 से 30 दिसंबर 2016 के बीच बैंक खाते मे जमा किए गए पैसे की डिटेल्स भी देनी हैं।
आठ नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को उसी रात 12 बजे से बंद करने की घोषणा की गयी थी।

8 नवंबर 2016 की रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में नोटबंदी की घोषणा कर दी थी। इसके बाद 9 नवंबर से 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था। अब इनकम टैक्स विभाग ने ऐसे लोगों पर नकेल कसने की योजना बनाई है जिन्होंने अपने खाते में नोटबंदी के दौरान कैश जमा किया था, लेकिन यह कैश कहां से आया इसका कोई अता पता नहीं है। इनकम टैक्स विभाग ने इस साल इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय 9 नवंबर 2016 से 30 दिसंबर 2016 के बीच बैंक खाते मे जमा किए गए पैसे की डिटेल्स भी मांगी हैं। अगर आप इस दौरान यह साबित कर देते हैं कि जो पैसा आपने जमा किया था उसपर टैक्स दिया जा चुका है, तो आप बच सकते हैं वरना टैक्स देना होगा।

अगर कोई करदाता इस बीच जमा किए गए पैसे की डिटेल्स छुपाने की कोशिश करेगा तो आईटी डिपार्टमेंट अपने यहां मौजूद रिकॉर्ड्स से इस बात का पता लगा लेगा कि करादाता के द्वारा दी गई जानकारी सही है या नहीं। अगर कोई छुपाने की कोशिश करेगा तो उसपर कार्रवाई होगी। विशेषज्ञों के मुताबिक अगर आप इस दौरान जमा किए गए पैसे के बारे में जानकारी देकर यह साबित कर पाए की इस पैसे पर टैक्स दिया जा चुका है तो ठीक है नहीं तो पैसा इनकम टैक्स में दिखाना होगा और इसपर टैक्स देना होगा। आपको बता दें कि इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई है। कई बार हम सोचते है कि अभी तो बहुत समय है आराम से रिटर्न भर देंगे। लेकिन आपको इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

अगर आखिरी दिन आप टैक्स रिटर्न फाइल करने बैठते हैं और इंटरनेट नहीं चलता है या कोई दूसरी दिक्कत आ जाती है, तो आपको काफी नुकसान हो सकता है। वहीं आप कई चीजों से वंचित भी रह सकते हैं। समय से टैक्स भरने पर टैक्स रिफंड आसानी से मिल जाता है। लोन और कार्ड की प्रोसेसिंग भी आसानी से हो जाती है। पेनल्टी नहीं लगेगी। इससे फाइनैंशल स्कोर भी अच्छा हो जाएगा। अगर रिटर्न फाइल करते समय कोई गलती हो जाती है तो रिवाइज रिटर्न आसानी से भर सकते हैं। वहीं लेट जमा करने पर लगने वाली ब्याज से भी बच सकते हैं। वीजा मिलने में भी आसानी रहेगी क्योंकि कई जगह वीजा लेने के लिए इनकम टैक्स रिटर्न्स दिखाने पड़ते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.