ताज़ा खबर
 

शराब से 10 साल में 11 गुनी बढ़ी नीतीश सरकार की कमाई, बैन से लगेगी 4000 करोड़ की चपत

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने चुनावी वादे को पूरा करते हुए गुरुवार को कहा कि सरकार नशा मुक्ति पर नई नीति अप्रैल 2016 में लाएगी...
Author पटना | November 27, 2015 11:00 am
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (फाइल फोटो)

बिहार में तीसरी बार मुख्‍यमंत्री की कुर्सी संभालने के एक सप्‍ताह के भीतर ही नीतीश कुमार ने घोषणा की है कि नया वित्‍त वर्ष शुरू होते ही राज्‍य में शराबबंदी लागू हो जाएगी। हालांकि, अभी उन्‍होंने यह साफ नहीं किया कि यह पाबंदी पूरी तरह होगी या आंशिक रूप से। पर यह घोषणा चुनाव से पहले किए गए बड़े वादों पर अमल की दिशा में नीतीश का पहला कदम है।

10 साल में 11 गुनी कमाई: अगर शराबबंदी पूरी तरह लागू हुई तो बिहार सरकार के खजाने में करीब 4000 करोड़ रुपए कम हो जाएंगे। दस साल पहले शराब की बिक्री से 320 करोड़ रुपए का एक्‍साइज रेवेन्‍यू आता था। वित्‍त वर्ष 2014-15 में यह 3,665 करोड़ हो गया था। बीते दस साल का आंकड़ा ये है-

साल: एक्‍साइज रेवेन्‍यू (करोड़ रुपए में)
2014-15: 3,665
2013-14: 3,173
2012-13: 2,431
2011-12: 2,045
2010-11: 1,542
2009-10: 1,099
2008-09: 749
2007-08: 536
2006-07: 384
2005-06: 320

नीतीश कुमार ने गुरुवार को मद्य निषेध दिवस के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि उन्होंने वादा किया था कि अगली बार उनकी सरकार आएगी तो राज्य में शराबबंदी लागू करेगी। पटना के सिंचाई भवन स्थित अधिवेशन भवन में सीएम ने कहा कि सरकार अपने वादे को पूरा करने के लिए कृत संकल्प है। मुख्य सचिव और आबकारी व मद्य निषेध विभाग के प्रधान सचिव को आदेश दिया गया है कि नई नीति बनाने के लिए काम शुरू करें ताकि एक अप्रैल 2016 से नई नीति लागू की जा सके।

उन्होंने कहा कि शराब की लत से कम आय वर्ग के लोगों को सबसे ज्यादा नुकसान होता है। उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव तो पड़ता ही है उनके परिवार के विकास पर बच्चों की शिक्षा पर भी इसका बुरा असर होता है। नीतीश कुमार ने कहा कि शराब से परिवार में अशांति पैदा होती है। परिवार में नशे की लत के कारण सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं को झेलनी पड़ती है। हम बिहार में महिलाओं का दर्द समझ सकते हैं।उन्होंने कहा कि सरकार का यह प्रयास होगा कि नशा सेवन के कारण तबाह परिवारों में खुशी लौटे, उन परिवारों की आमदनी की राशि शिक्षा, पोषणयुक्त भोजन पर खर्च हो न कि नशा सेवन पर।  नीतीश ने कहा कि आबकारी विभाग से अभी लगभग चार हजार करोड़ की आय होती है, परंतु जनहित में गरीबों और महिलाओं के हित में इन सबके बावजूद सरकार नशा मुक्ति पर नई नीति अप्रैल 2016 में लाएगी ताकि गरीब परिवारों में खुशी लौट सके और उनका विकास तेज हो सके।

एलान का असर शराब कंपनियों पर:
नीतीश कुमार की इस घोषणा के बाद गुरुवार को शराब कंपनियों के शेयरों में जोरदार गिरावट आई। बंबई शेयर बाजार में यूनाइटेड स्प्रिट्स का शेयर 4.74 प्रतिशत के नुकसान से 3,211.45 रुपए पर आ गया। रेडिको खेतान का शेयर 6.92 प्रतिशत टूटकर 114.25 रुपए पर बंद हुआ। वहीं पिन्कन स्प्रिट्स का शेयर 2.02 प्रतिशत के नुकसान से 101.75 रुपए व सोम डिस्टिलरीज का शेयर 0.05 प्रतिशत के नुकसान से 189.30 रुपए पर आ गया। हालांकि, इस रुख के उलट यूनाइटेड ब्रेवरीज का शेयर 0.13 प्रतिशत के मामूली लाभ से 958.65 रुपए पर पहुंच गया। शराब की बिक्री से बिहार को सालाना 400 करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त होता है।

नीतीश कुमार से जुड़ी और खबरें पढ़ना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.