ताज़ा खबर
 

ये 6 काम 31 मार्च 2017 से पहले पूरे कर लेंगे तो फायदे में रहेंगे

साल 31 मार्च को एक वित्त वर्ष का अंत होता है, इस दौरान कई काम होते हैं जो आप समय सीमा से पहले कर लें तो फायदे में रहेंगे।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया।

हर साल 31 मार्च की तारीख को देश के एक वित्त वर्ष का अंत होता है। इस दौरान तमाम तरह के बही-खातों से जुड़े हिसाब-किताब पूरे किए जाते हैं। ऐसे ही कई काम एक आम आदमी को भी करने होते हैं। जानते हैं उनके बारे में।

पुराने नोट बदलना जरूरी- नोटबंदी के बाद 1000 और 500 रुपये के पुराने नोट बदलने के लिए भी आपके पास सिर्फ 31 मार्च 2017 तक का ही समय है।

रिटर्न फाइल करना (वित्त वर्ष 2014-15)- वित्त वर्ष के अंत के दौरान आयकर रिटर्न भरना जरूरी कामों में से एक है। वहीं जिनका पुराने वित्त वर्ष (2015-16 और 2014-15) का आयकर रिटर्न नहीं भरा गया है वे 31 मार्च 2017 तक इसे भर ,सकते हैं। इस समय सीमा के बाद विभाग आपको पुराने वित्त वर्ष के लिए रिटर्न फाइल करने की इजाजत नहीं करने देगा।

टैक्स बचाएं- टैक्स बचाने के लिए निवेश या खर्चों का ब्योरा तैयार कर रहे हैं तो उसे 31 मार्च से पहले ही तैयार करना फायदेमंद होगा। डेडलाइन के बाद डीटेल्स जमा कराने पर आप टैक्स में कटौती के लिए क्लेम नहीं कर पाएंगे।

पीपीएफ में योगदान- सालाना 500 रुपये का निवेश आपको इसमें करना होता है। अगर इसे समय सीमा के बाद जमा कराते हैं तो आपको 50 रुपये का जुर्माना चुकाना पड़ेगा।

जुर्माने से बचें- टैक्स रिटर्न समय सीमा (31 मार्च) निकल जाने के बाद भरेंगे तो आपको 5000 रुपये का जुर्माना भी भरना पड़ सकता है।

एनपीएस ऐक्टिव रखें- हर वित्त वर्ष एनपीएस टीयर 1 खाता धारकों को 1000 रुपये का योगदान करना होता है। इसे सही समय पर जमा नहीं करने से आपका खाता निष्क्रिय हो सकता है।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.