December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

जिन लोगों के पास नहीं है बैंक खाता वो बैंक जाकर इस तरह बदलें 500 और 1000 के नोट

एक व्यक्ति जितने अधिक मूल्य की नकदी बदलता है, उसे उतने ही मूल्य के नोट अधिक मात्रा में मिलेंगे। मसलन 500 रुपए के एक नोट के बदले उसे 100-100 रुपए के पांच नोट मिलेंगे।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

मंगलवार रात से 1,000 रुपए और 500 रुपए के बैंक नोटों को अवैध करने की सरकार की घोषणा के बाद मौद्रिक अधिकारियों ने इस कदम के पीछे तर्क देते हुए 25 बिंदुओं की एक विस्तृत प्रश्नोत्तरी जारी की है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा कि इस बैन के पीछे सबसे जरूरी कारण अधिक मूल्य के जाली नोटों का बढ़ना और व्यवस्था में अधिक कालाधन का होना है। लेकिन साथ ही आरबीआई ने जनता को यह आश्वासन भी दिया कि एक व्यक्ति जितने अधिक मूल्य की नकदी बदलता है, उसे उतने ही मूल्य के नोट अधिक मात्रा में मिलेंगे। मसलन 500 रुपए के एक नोट के बदले उसे 100-100 रुपए के पांच नोट मिलेंगे।

फिलहाल 4000 रुपए तक की लिमिट:

रिजर्व बैंक ने कहा, ‘एक व्यक्ति को नकदी में 4,000 रुपए तक ही मिलेंगे और इससे ऊपर की रकम उसके खाते में जमा कर दिए जाएंगे और वह पूरी की पूरी रकम नकदी में नहीं पा सकता। पुराने नोटों को आरबीआई के 19 कार्यालयों में से किसी पर भी और किसी बैंक शाखा या किसी प्रधान डाक घर या उप डाक घर में बदले जा सकते हैं।’जिन्हें 4,000 रुपए से अधिक की नकदी की जरूरत है, वह चेक या इलेक्ट्रानिक माध्यमों जैसे आनलाइन बैंकिंग, मोबाइल वालेट, आईएमपीएस, क्रेडिट-डेबिट कार्ड आदि के जरिये इसका भुगतान कर सकता है।

आप अपने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों के साथ क्या करें, जानने के लिए वीडियो देखें

जिनके पास नहीं है खाता:

जिनके पास कोई बैंक खाता नहीं है, वे आवश्यक केवाईसी दस्तावेजों के साथ एक खाता खोल सकते हैं। जिस व्यक्ति के पास अपना खुद का निजी खाता नहीं है, वह रिश्तेदार या मित्र के खाते के जरिये नोटों को बदलने की सुविधा ले सकता है, बशर्ते उसे लिखित अनुमति लेनी होगी और नोट बदलते समय उसे खाताधारक द्वारा दी गई अनुमति का प्रमाण और अपना वैध पहचान प्रमाण उपलब्ध कराना होगा। इसके अलावा ये लोग पोस्ट ऑफिस जाकर भी पैसे बदल सकते हैं।

वीडियो: 500 और 1000 के नोट बंद, क्या होगा इसका असर?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 10:26 am

सबरंग