ताज़ा खबर
 

यूनियन बजट 2017: ₹72500 करोड़ के विनिवेश का लक्ष्य, रेलवे के तीन उपक्रम होंगे सूचीबद्ध

वित्त वर्ष 2016-17 लगातार सातवां साल है जब सरकार बजट में निर्धारित विनिवेश के लक्ष्य को पूरा नहीं कर पाएगी।
Author नई दिल्ली | February 1, 2017 21:18 pm
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर ट्रेन में सामान लोड करते कर्मचारी और प्लेयफॉर्म पर अपने ट्रेन की प्रतीक्षा करता एक व्यक्ति। (REUTERS/Cathal McNaughton/ 1 Feb, 2017)

सरकार ने बुधवार (1 फरवरी) को कहा कि वह सार्वजनिक उपक्रमों में हिस्सेदारी बेचकर 72,500 करोड़ रुपए जुटाएगी। इसमें रेलवे के तीन उपक्रम आईआरसीटीसी, आईआरएफसी और इरकॉन को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कराया जाना शामिल है। साथ ही वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी सार्वजनिक इकाइयां सृजित करने के लिये विलय एवं एकीकरण का प्रस्ताव किया गया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार चिन्हित केंद्रीय लोक उपक्रमों (सीपीएसई) को शेयर बाजारों में समयबद्ध तरीके से सूचीबद्धता सुनिश्चित करने के लिये संशोधित प्रणाली और प्रक्रिया रखेगी क्योंकि सूचीबद्धता से सार्वजनिक जवाबदेही बढ़ेगी और उनका वास्तविक मूल्य सामने आएगा। जेटली ने लोकसभा में 2017-18 के बजट भाषण में कहा, ‘आईआरसीटीसी, आईआरएफसी और इरकॉन जैसे रेलवे के उपक्रमों को शेयर बाजारों में सूचीबद्ध कराया जाएगा।’

दस्तावेज के तहत सरकार ने 2017-18 में केंद्रीय लोक उपक्रमों में विनिवेश के जरिये 72,500 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखा गया है। यह संशोधित अनुमान के तहत मौजूदा वित्त वर्ष में जुटाये गये 45,500 करोड़ रुपए से अधिक है। वित्त वर्ष 2016-17 लगातार सातवां साल है जब सरकार बजट में निर्धारित विनिवेश के लक्ष्य को पूरा नहीं कर पाएगी। पिछले बजट में सार्वजनिक उपक्रमों में विनिवेश के जरिये 56,500 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखा गया था। वित्त मंत्री जेटली ने कहा कि केंद्रीय लोक उपक्रमों को एकीकरण, विलय एवं अधिग्रहण के जरिये मजबूत करने का अवसर है। उन्होंने कहा कि इससे वे उच्च जोखिम को वहन करने में सक्षम होंगे, पैमाने की मितव्ययिता का लाभ उठा सकेंगे, अधिक उच्च निवेश निर्णय कर सकेंगे और शेयरधारकों के लिये अधिक मूल्य सृजित कर सकेंगे। तेल एवं गैस क्षेत्र में इस प्रकार के पुनर्गठन की संभावना दिखायी दे रही है।

वित्त मंत्री ने कहा, ‘हम तेल क्षेत्र में समन्वित सार्वजनिक उपक्रम सृजित करने का प्रस्ताव करते हैं जो अंतरराष्ट्रीय और घरेलू निजी क्षेत्र की तेल एवं गैस कंपनियों के प्रदर्शन के अनुरूप काम कर सकेंगे।’ जेटली ने कहा कि 10 सीपीएसई के शेयरों को मिलाकर एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) को अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। सरकार ने सीपीएसई ईटीएफ के दूसरे संस्करण से 6,000 करोड़ रुपए जुटाये हैं। उन्होंने कहा, ‘हम शेयरों के विनिवेश के लिये ईटीएफ का उपयोग जारी रखेंगे। अत: विभिन्न सार्वजनिक उपक्रमों के शेयरों को मिलाकर एक नया ईटीएफ 2017-18 में शुरू किया जाएगा।’

बजट 2017: अरुण जेटली ने पेश किया बजट, जानिए बजट की मुख्य बातें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग