April 29, 2017

ताज़ा खबर

 

ब्‍लॉग: क्‍या 2019 तक चुनाव मोड में ही रहेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी?

2018 में गुजरात, नागालैंड, कर्नाटक, मेघालय, हिमाचल प्रदेश, त्रिपुरा में चुनाव होने हैं।

Author April 17, 2017 12:53 pm
भुवनेश्‍वर: 15 अप्रैल को भाजपा की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी। (PTI Photo)

नरेंद्र मोदी बेहद लोकप्रिय नेता हैं, इसमें कोई शक नहीं। खुद बीजेपी के अध्‍यक्ष अमित शाह उन्‍हें ‘आजादी के बाद का सबसे लोकप्रिय नेता’ बताते हैं। उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा के विधानसभा चुनावों में मोदी ने व्‍यापक रूप में प्रचार किया। जिसका फायदा भी भाजपा को मिला। अब अगले तीन साल में कई राज्‍यों में चुनाव हैं, जिनमें मोदी का गृह राज्‍य गुजरात भी शामिल है। 2018 में गुजरात, नागालैंड, कर्नाटक, मेघालय, हिमाचल प्रदेश, त्रिपुरा में चुनाव होने हैं। बीजेपी अभी से चुनावों की तैयारियों में जुट गई है। भुवनेश्‍वर में बीजेपी की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह ने नेताओं को बूथ स्‍तर पर पहुंच बनाने को कहा है। वह खुद 95 दिनों के भारत दर्शन पर निकलेंगे। ऐसे में यह माना जाए कि भाजपा 2019 तक चुनावी कार्यक्रमों में व्‍यस्‍त रहेगी। फिर नरेंद्र मोदी उसके सबसे बड़े प्रचारक हैं, तो उनपर भी जिम्‍मेदारी होगी। इसलिए यह कहना सही होगा कि 2019 तक मोदी ‘चुनाव मोड’ में ही रहने वाले हैं।

ओडिशा में राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में हिस्‍सा लेने से पहले जिस तरह पीएम मोदी ने रोड शो किया, उससे साफ संकेत मिलते हैं कि चुनावों की तरफ देख रहे हैं। जब मोदी गुजरात पहुंचे तो वहां सूरत में उन्‍होंने 11 किलोमीटर लंबा रोड शो किया। यह एक तरह से बीजेपी का शक्ति प्रदर्शन था जिसमें 11 किलोमीटर तक साड़ी बिछाकर मोदी की उपलब्धियों का बखान किया गया। मोदी सूरत दौरे पर कई कार्यक्रमों में हिस्‍सा लेने वाले हैं, जिनमें विभिन्‍न समुदायों के प्रतिनिधियों से मुलाकात शामिल हैं। करीब 14 साल तक गुजरात के मुख्‍यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी को पार्टी के पक्ष में सभी समीकरण बैठाने होंगे।

कर्नाटक में बीजेपी खुद को मजबूत बना रही है। यहां कांग्रेस को सत्‍ता से बाहर करने के लिए बीजेपी पूरा जोर लगा देगी। चूंकि ‘कांग्रेस मुक्‍त भारत’ का लक्ष्‍य लेकर चल रही बीजेपी के सामने अगले तीन साल में बड़ी चुनौतियां हैं। मणिपुर में पहली बार पार्टी सत्‍ता में आई है, इसलिए नागालैंड, त्रिपुरा और मेघालय में पार्टी का कैडर जोश में होगा। हिमाचल में कांग्रेस के सीएम भ्रष्‍टाचार के आरोपों से जूझ रहे हैं, स्‍थानीय स्‍तर पर बीजेपी के लिए यह मुद्दा अहम साबित हो सकता है।

जनसत्‍ता संपादकीय पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

संबंधित वीडियो देखें:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on April 16, 2017 9:45 pm

  1. No Comments.

सबरंग