March 23, 2017

ताज़ा खबर

 

ब्लॉग

करण जौहर जी, किराये की कोख तो ले ली, पर मां किराये पर नहीं मिलती!

करण ने सार्वजनिक किए गए लेटर में भी कहीं बच्चों की मां का जिक्र नहीं किया है, लेकिन यह जरूर लिखा है कि मैं...

सीबीएस के कॉन्‍सेप्‍ट को ध्‍वस्‍त करने की साजिश? नरेंद्र मोदी के कैंपेन के नाम पर पब्लिक को चूना लगा रहे एचडीएफसी, आईसीआईसीआई जैसे बैंक

एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक ने एक मार्च से सभी बचत और वेतन खातों से महीने में चार बार से ज्यादा बार नकद लेन-देन...

इन कारणों से गलत है एचडीएफसी, आईसीआईसीआई का हमारे पैसे निकालने पर हमसे ही चार्ज वसूलना, देख रही है नरेंद्र मोदी सरकार?

एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक ग्राहकों द्वारा होम ब्रांच से पहले चार बार नकद देन-देन के बाद हर जमा या निकासी पर शुल्क ले...

गुजरात 2002: तब एमजे अकबर ने अरुण जेटली से पूछा था- आप हिंदुओं के कानून मंत्री हैं या हिन्दुस्तान के?

गुजरात 2002 के दंगों से जुड़े 3 अहम सवाल इस प्रकार हैं। इतने बड़े पैमाने पर हुई हिंसा की ज़िम्मेदारी कौन लेगा? क्या गुजरात...

जब नौजवान मोर्चे निकालने में व्यस्त हों तो कहां का राष्ट्रीय विज्ञान दिवस और कैसा रमन प्रभाव?

National Science Day: 28 फरवरी 1928 को सर सीवी रमन ने प्रकाश के प्रकीर्णन की खोज की थी। 1987 में भारत सरकार ने हर...

डियर सेकुलर, डियर राष्ट्रवादी! गुरमेहर कौर को छोड़ो, असली मुद्दे पर तो लौटो!!

गुरमेहर कौर ने मंगलवार को कहा, "मुझे अकेला छोड़ दो, बहुत सह लिया....यह अभियान छात्रों के बारे में है, ना कि मेरे बारे में।"

आखिर क्यों यूपी में विकास के एजेंडे से उतरते नजर आ रहे नरेंद्र मोदी, एक-एक कर तरकश से दूसरे तीर निकाल रहे पीएम

पहले पंजाब और अब उत्तर प्रदेश चुनावों में जातीय और साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण न केवल निरंतर जारी है बल्कि पहले के मुकाबले इसके स्तर में...

ब्‍लॉग: सेंसर बोर्ड के खाप जैसे रवैए की नई शिकार है प्रकाश झा की फिल्‍म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्क़ा’

फिल्‍में सेंसर करने का तरीका डेमोक्रेटिक होना चाहिए। जनता का मसला है, जनता पर छोड़ना चाहिए।

बड़े हैं इसरो के कारनामे, पर इससे ज्‍यादा युवाओं का नहीं जुड़ना है बड़ी चिंता की बात

इसरो की प्रतिदिन बढ़ रही अन्तरराष्ट्रीय विश्वसनीयता से युवाओं में एक विश्वास जाग्रत होना चाहिए कि वे एक ऐसे राष्ट्र के नागरिक हैं, जहां...

सड़क पर पड़ी लाश से भी नहीं पसीजा दिल, पत्थर दिलवालों की हो गई है दिल्ली

अगर समय रहते इन मानवीय मूल्यों के संरक्षण की दिशा में कारगर कदम नहीं उठाए गए तो आनेवाली पीढ़ियां न तो नैतिकता का तकाजा...

जेएनयू, हैदराबाद में देशविरोधी बातों का बचाव करने वालों, आरक्षण के खिलाफ भी तो बोलो! 

संविधान की प्रस्तावना में उल्लिखित शब्दों जैसे सामाजिक और आर्थिक न्याय तथा अवसर की समानता आदि का वर्तमान जातिगत आरक्षण व्यवस्था किस प्रकार अनुसरण...

स्‍टंट भी हो सकता है ‘पद्मावती’ पर विवाद: कहानी कुछ भी हो, पर इतिहास से खिलवाड़ तो कर ही रहे हैं संजय लीला भंसाली

सोचने वाली बात यह भी है कि अगर फिल्म में रणवीर और दीपिका नाचेंगे या गाएंगे नहीं तो फिल्म कैसे हिट होगी? फिल्म कैसे...

राजनीति में अमर्यादित भाषा का लुत्फ न उठाए, बोलने वालों को सबक सिखाए जनता

भाषा का राष्ट्रीय चरित्र के उत्थान में बहुत बड़ा योगदान होता है। इसे नेतागण स्वीकारें या न स्वीकारें, क्योंकि नेताओं की स्वीकृति अथवा अस्वीकृति...

बिहार के नुकसान से सबक लेकर यूपी चुनाव प्रचार में तीखे तेवर नहीं दिखा रहे पीएम नरेंद्र मोदी

2015 की जुलाई में नरेंद्र मोदी ने मुजफ्फर पुर की अपनी सभा में कह दिया था कि नीतीश कुमार के डी.एन.ए. में ही कुछ...

…तो क्‍या व‍िपक्षी सांसद होने के चलते ई अहमद के ल‍िए स्‍थग‍ित नहीं हुआ सदन, या यह है नई परंपरा की शुरुआत?

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के सांसद ई अहमद पांच बार विधायक और सात बार सांसद रहे थे।

आम बजट 2017: जेटली की चतुराई, चुनाव आयोग के डंडे का मान भी रखा और चुनावी चाल भी चली

Union Budget 2017: जेटली ने चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश के मुताबिक भले ही अपने बजट भाषण में चुनावी राज्यों का नाम न लिया हो...

Union Budget 2017: अरुण जेटली ने चंदा छिपाने वाली राजनीतिक पार्टियों को झटका तो दिया मगर प्यार से

बुधवार (एक फरवरी) को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राजनीतिक दलों के 2000 रुपये से अधिक नकद चंदे पर रोक लगाकर ऐसे टूटे हुए...

जयति घोष का आकलन: नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने ही फैसलों से इस बजट को बना ल‍िया है सबसे मुश्‍क‍िल

आम बजट 2017: इस बार सरकार करीब एक महीने पहले आम बजट पेश कर रही है। वहीं रेल बजट भी इस बार नहीं पेश...

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग