ताज़ा खबर
 

तेज बहादुर यादव जी, BSF नरेंद्र मोदी सरकार की राह पर ही है, शुक्र मनाइए आपको ‘देशद्रोही’ नहीं घोषित किया गया

भारतीय सीमासुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान तेज बहादुर यादव का आरोप है कि खराब खाना दिए जाने की शिकायत करने के बाद उन्हें प्लंबर का काम दे दिया गया है।
Author January 11, 2017 16:24 pm
बीएसएफ के जवान तेज बहादुर यादव (Source: Facebook)

भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान तेज बहादुर यादव के अनुसार खराब खाना दिए जाने की शिकायत करने के बाद उन्हें सीमा से हटाकर प्लंबर का काम दे दिया गया है। बीएसएफ ने इस मामले पर जिस तरह की प्रतिक्रिया दी है वो आश्चर्यजनक रूप से काफी हद तक वैसी ही है जैसी नरेंद्र मोदी सरकार की “आलोचना की आवाज” उठाने वालों के खिलाफ होती है। तेज बहादुर यादव को बीएसएफ और केंद्र सरकार का शुक्रगुजार होना चाहिए कि उन्हें “देशद्रोही” नहीं घोषित किया गया। पिछले कुछ समय से देश में जिस किसी ने किसी भी मामले में “खाना खराबी” की शिकायत की है उसे केंद्र में सत्ताधारी पार्टी और उसके समर्थकों ने “देशद्रोही” घोषित कर दिया है। मसलन नोटबंदी, महंगाई, कश्मीर में जवानों और नागरिकों की मौत के बढ़ते आंकड़े।

तेज बहादुर का वीडियो वायरल होने के बाद बीएसएफ की पहली  प्रतिक्रिया आई कि “प्राथमिक जांच” में सब कुछ ठीक पाया गया है। “अच्छे दिनों” में भला किसे उम्मीद रही होगी कि प्राथमिक जांच में रोटी को जला हुआ और दाल को पानी में डूबा हुआ पाया गया? नोटबंदी के बाद करीब 100 लोगों की जान जाने, कइयों की शादियां टूटने, कई क्षेत्रों में लोगों के रोजगार जाने, कारोबार बंद होेने की तमाम शिकायतों पर मोदी सरकार की “प्राथमिक जांच” में सब कुछ ठीक पाया गया।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने जवान की शिकायत पर बीएसएफ से “रिपोर्ट” मांगी है और “उचित कार्रवाई” का आदेश दिया है। तेज बहादुर को अगर सचमुच ही उन्हें सीमा पर स्थित ट्रांजिट पोस्ट से हटाकर बीएसएफ मुख्यालय में प्लंबर (नल-टोटी ठीक करने का काम) के तौर पर भेज दिया गया है तो गृह मंत्री के आदेश पर की गयी सबसे तेज “उचित कार्रवाई” मानना चाहिए। मोदी सरकार का भी कहना है कि उसने काले धन पर “उचित कार्रवाई” करते हुए ही नोटबंदी लागू की है।

देखें बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव द्वारा शेयर किया गया वीडियो:

“खाना खराबी” की शिकायत करने पर “उचित कार्रवाई” के साथ ही बीएसएफ ने तेज बहादुर के “चरित्र पर सवाल” भी उठा दिया। कुछ वैसे ही जैसे पीएम नरेंद्र मोदी नोटबंदी की आलोचकों को इशारों में “भ्रष्टाचारी” और “एंटी-नेशनल” बताते हैं। बीएएफ ने तेज बहादुर के ऊपर जो आरोप लगाए हैं उनमें शराब पीकर गालीगलौज करने का भी आरोप है। सैनिक, शराब और गालीगलौज? बीएसएफ ने ये भी बताया कि तेज बहादुर ने ड्यूटी पर देर से आने और अधिकारियों की “आज्ञा” के विपरीत काम करने का भी अपराध किया है जिसके लिए सात दिन की जेल की भी सजा हो चुकी है। अब भला तेज बहादुर कोई सांसद या मंत्री तो हैं नहीं जो संसद के पूरे सत्र में गायब रहकर भी गुनाहगार न माने जाएं। तेज बहादुर कोई राजनेता या सांसद तो हैं नहीं जो डी राजा की तरह जेल जाकर या बीजेपी के मौजूदा अध्यक्ष अमित शाह की तड़ीपार होकर या सुरेश कलमाड़ी की तरह भ्रष्टाचार का आरोपी होकर या विजय माल्या की तरह हजारों करोड़ कर्जा लेकर फरार होने जाने के बाद भी “देश का विकास” करते रहें। ये अलग बात है कि तेज बहादुर के अनुसार उन्हें गोल्ड मेडल समेत 16 पदक मिल चुके हैं। तेज बहादुर ने ये भी माना कि उनसे नौकरी में कुछ गलतियां हुई हैं लेकिन वो उनमें सुधार कर चुके हैं।

देखें तेज बहादुर यादव द्वारा शेयर किया गया खाने का वीडियो:

बीएसएफ ने तेज बहादुर की शिकायत पर ये भी कहा कि कि “इस तरह की पोस्ट” में अच्‍छी सुविधाएं नहीं होती हैं क्‍योंकि ये अस्‍थायी तौर पर बनाई जाती हैं। नोटबंदी पर जितने भी सवाल उठाए गए उन पर पीएम मोदी और उनके सभी मंत्री यही कहते हैं कि “इस तरह के फैसलों” से ऐसी दिक्कतें होती हैं।  बीएसएफ अधिकारियों ने ये भी कहा कि तेज बहादुर जहां पर तैनात थे वह बीएसएफ की ट्रांजिंट पोस्‍ट है जिसका ऑपरेशनल कंट्रोल सेना के पास है और वहीं राशन मुहैया कराती है। जाहिर है बीएएफ ने जली रोटी और पानी दाल की “जवाहदेही” किसी और पर टाल दी है! कुछ उसी तरह जैसे मोदी सरकार नोटबंदी के लिए आरबीआई को जवाबदेह बता रही है और आरबीआई कह रहा है कि हमसे तो सरकार ने कहा।

देखें तेज बहादुर यादव द्वारा शेयर किया गया जली रोटी का वीडियो:

बीएसएफ ने तेज बहादुर के वीडियो में बड़े अफसरों लगाए गए आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि हालांकि मामले में अन्य लोगों के अलावा रसोइए से पूछताछ की जाएगी। कुछ दिन बाद ऐसी खबर आई कि “खाना खराब” होने के लिए बड़े अफसर नहीं “रसोइया” था जिम्मेदार। आपको याद ही होगा कि जब पेट्रोलियम मंत्रालय में गोपनीय कागजात लीक होने का मामला सामने आया तो मुख्य आरोपी “चपरासियों” को पाया गया। दिल्ली पुलिस ने मामले में आरोपी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का दफ्तार पर छापा मारा था लेकिन उसे किसी बड़े अधिकारी की मिलीभगत का सबूत नहीं मिला।

देखें तेज बहादुर यादव द्वारा शेयर किया गया पानी दाल का वीडियो:

तेज बहादुर यादव ने वीडियो में जो कहा है उसे आप एक बार फिर पढ़िए और सोचिए कि क्या वो उनकी अपील पूरे देश की खाना खराबी की प्रतीक नहीं लगती? तेज बहादुर ने कहा है, ‘देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं। हम लोग सुबह 6 बजे से शाम 5 बजे तक, लगातार 11 घंटे इस बर्फ में खड़े होकर ड्यूटी करते हैं। कितना भी बर्फ हो, बारिश हो, तूफान हो, इन्‍हीं हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं। फोटो में हम आपको बहुत अच्‍छे लग रहे होंगे मगर हमारी क्‍या सिचुएशन हैं, ये न मीडिया दिखाता है, न मिनिस्‍टर सुनता है। कोई भी सरकार आईं, हमारे हालात वहीं हैं। मैं इस के बाद तीन वीडियो भेजूंगा जिसको मैं चाहता हूं कि आप दिखाएं कि हमारे अधिकारी हमारे साथ कितना अत्‍याचार व अन्‍याय करते हैं। हम किसी सरकार के खिलाफ आरोप नहीं लगाना चाहते। क्‍योंकि सरकार हर चीज, हर सामान हमको देती है। मगर उच्‍च अधिकारी सब बेचकर खा जाते हैं, हमारे को कुछ नहीं मिलता। इसकी जांच होनी चाहिए।”

वीडियो में तेज बहादुर ने पीएम नरेंद्र मोदी से अपील की है कि ”मैं प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि इसकी जांच कराएं। दोस्‍तों यह वीडियो डालने के बाद शायद मैं रहूं या न रहूं। अधिकारियों के बहुत बड़े हाथ हैं। वो मेरे साथ कुछ भी कर सकते हैं, कुछ भी हो सकता है।” पीएम मोदी तेज बहादुर की कितनी और कब सुनेंगे पता नहीं लेकिन मैं उनसे कहना चाहता हूं कि तेज बहादुर यादव जी, बीएएफ मोदी सरकार की राह पर ही है, शुक्र मनाइए आपको देशद्रोही नहीं घोषित किया गया।

वीडियो: BSF जवान ने कहा- “उच्च अधिकारी सब बेचकर खा जाते हैं, पीएम मोदी जांच कराएं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. K
    Kishor
    Jan 11, 2017 at 9:18 am
    आब हमें पूरा विस्वास हो गे है ये जनसत्ता वाले देश को बर्बाद करने में लगे है , और जो देश को बेच रहा था , उसके साथ है , देश को बरगला बंद करो , नहीं तो हम जनता पेपर लेना बंद कर देंगे
    Reply
    1. J
      Justhuman
      Jan 11, 2017 at 3:43 pm
      ी बात है Modi का विरोधी देश द्रोही कहलाता हैबीजेपी के हिसाब से , पूरा देशको Barbados करने काthe ka ले Raksha हैइन लोगो ne
      Reply
      1. दीपक मिश्रा
        Jan 11, 2017 at 10:29 am
        जनसत्ता का ये बिलकुल गलत टाइटल के साथ खबर पोस्ट की हैजब BSF के जवान ने ये बोल दिया था की सरकार सब सामान देती है लेकिन BSF के अफसर उसे बेच लेते है तब इसमे नरेंद्र मोदी जी को और नोटबंदी के जिक्र करने की क्या जरूरत थी।Ndtv की राह पर तो नही चल पड़े के जो सिर्फ देशद्रोहियो की ही तारीफ करता रहता है और आतंकवादियो को कैदी बोलता हैये सस्ती लोकप्रियता पाने की गलत आदत है इसे बदल डालो देश बदल रहा है।
        Reply
        1. N
          Nasir iqbal
          Jan 11, 2017 at 12:57 pm
          इस देश में आतंकवादी की परिभाषा ही मनमानी बनायी जाती है
          Reply
        2. A
          Asi
          Jan 11, 2017 at 11:35 am
          जथा राजा तथा प्रजा!!!
          Reply
          1. N
            neeraj
            Jan 11, 2017 at 5:05 pm
            Bjp के खिलाफ बोलना सच में देशद्रोह जैसा हो गया ह शर्म करो यार ab क्या पूरे देश में बीजेपी वाले बताएँगे कौन देशभक्त ह कौन देशद्रोही भारत में रहने वाला हर आदमी देशभक्त ह
            Reply
            1. P
              pokhra
              Jan 11, 2017 at 5:20 pm
              अब तो जनसत्ता वाला भी देश द्रोही हो गया इसने मोदी की आलोचना जो करदी....ये मोदी देश को बेच कर खा जायेगा....शक्ल से ही मनहूस दीखता है....२०१९ में जेयादा दिन नहीं बचे हैं....
              Reply
              1. R
                radheshyam
                Jan 12, 2017 at 11:52 am
                एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट गुजरात में है और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा विन्ड फार्म गुजरात मेंहै लेकिन इस देश कि बिकाऊ मीडिया ने कभी नहीं दिखाया लेकिन केजरी वाल जो बिजली का दाम आधा करना चाहता है उसे हीरो बना रहे !#DalaalMedia
                Reply
                1. D
                  Dhannjay
                  Apr 19, 2017 at 9:49 pm
                  सब कुछ गुजरात में है तब तो बिजली का बिल पूरा माफ होना चाहिए छोड़ो यार भक्तों आधा ही कर दो ये भी नहीं हो सकता तो मान लो की सबसे भ्रष्ट गुजरात है
                  Reply
                2. R
                  Rajendra Vora
                  Jan 11, 2017 at 8:25 am
                  जनसत्ता का कोई ा हुआ हे क्या मोदी जी के हाथों. क्यों बे सर पैर की फेक रहे हो. जब गृहमंत्रालय ने जाँच के आदेश दिए हे तो आपके पेट में क्या दुःख रहा हे? क्या विदेशी डोरे सरकारी खर्च पर नहीं करने मिलते या पिछली सर्कार की तरह तुम्हे कोई पैसा नहीं मिलता. रही बात तो बंगाल में जो हो रहा हे उसके बारे में अवार्ड वापसी गैंग की प्रतिकिया क्यों नहीं आ रही, आप अपने स्वार्थ के बल कुछ भी लिखे हमें अब पक्का विश्वास हे की वह जो कर रहे हे ी कर रहे हे. इसी लिए हम उन्हें हरेक जगह से जीत रहे हे.
                  Reply
                  1. R
                    Rajendra Vora
                    Jan 11, 2017 at 11:20 am
                    दीपक जी मेरे कमेंट करते ही आये सभी कमेंट देखो तो पता चलता हे की अब ये प्रेस्सटिट्यूट और अवार्ड वापसी गैंग क्या चाहते हे. इसमें इन्हें सस्ती लोकप्रियता तो क्या लोगो की महंगी महंगी गालिया मिल रही हे.
                    Reply
                    1. Load More Comments
                    सबरंग