January 24, 2017

ताज़ा खबर

 

BLOG: अनुराग कश्‍यप की चिंता जायज, मगर पीएम नरेंद्र मोदी से माफी मांगने को कहना सही नहीं

बतौर निर्देशक, अनुराग का गुस्‍सा जायज है, उन्‍हें गुस्सा आना भी चाहिए।

Author October 17, 2016 09:38 am
सारा विवाद करण जौहर की फिल्‍म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को लेकर है।

बॉलीवुड फिल्‍म निर्माता-निर्देशक अनुराग कश्‍यप अच्‍छी फिल्‍में बनाते हैं। उनकी फिल्‍में समाज को एक संदेश देती हैं, ब्‍लैक फ्राइडे से लेकर गैंग्‍स ऑफ वासेपुर तक, कश्‍यप ने अपनी फिल्‍मों के जरिए अलग पहचान बनाई है। उन्‍हें मुखर आैर बेबाक बातें कहने के लिए जाना जाता है। मगर कश्‍यप का सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी मांगने को कहना, थोड़ा बचकाना लगता है। बतौर निर्देशक, अनुराग का गुस्‍सा जायज है, उन्‍हें गुस्सा आना भी चाहिए। विवाद करण जौहर की फिल्‍म ‘ऐ दिल है मुश्‍किल’ को लेकर है। जिसमें पाकिस्‍तानी कलाकारों की भूमिका है। उरी में भारतीय सेना के कैंप पर हमले के बाद कुछ राजनैतिक दलों ने बॉलीवुड में पाकिस्‍तानी कलाकारों के काम करने को लेकर सवाल खड़े किए। उनका तर्क था कि जब वे (पाकिस्‍तानी कलाकार) यहां काम करते हैं तो उन्‍हें देश में हुए आतंकी हमलों की निंदा करने में क्‍या समस्‍या है। इस तर्क को मजबूती इस बाद से मिली कि फवाद खान, म‍ाहिरा खान जैसे पाकिस्‍तानी कलाकारों ने पेरिस आतंकी हमले पर सोशल मीडिया पर शोक जताया था, मगर उरी पर खामोश रह गए। ये ऐसा मसला था जिस पर बॉलीवुड भी बंंट गया था। बॉलीवुड में कैंपों का बोलबाला है तो करण जौहर का कैंप खास अहमियत रखता है। कश्‍यप का स्टैंड पहले भी पाकिस्‍तानी कलाकारों के समर्थन में था, मगर रविवार (16 अक्‍टूबर) को उन्‍होंने जिस तरह प्रधानमंत्री को संबोधित कर उनसे उनके पाकिस्‍तानी दौरे पर माफी मांगने को कहा तो विवाद हो गया। हालांकि इससे ठीक एक दिन पहले, 15 अक्‍टूबर को उन्‍होंने इस मुदे पर ट्वीट किया था, ”दुनिया को हमसे सीखना च‍ाहिए। हम अपनी सारी समस्‍याएं फिल्‍मों पर दोष मढ़ कर और उन्‍हें बैन कर सुलझाते हैं। #ADHM करन जौहर, मैं आपके साथ हूं।”

देखें, प्रियंका ने कैसे बिखेरा रेड कारपेट पर जलवा: 

मगर इसके अगले दिन अनुराग का रुख जरा आक्रामक हो गया। उन्‍होंने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए लिखा, ”श्रीमान, आपने पाकिस्‍तानी पीएम से मुलाकात के लिए यात्रा पर अब तक माफी नहीं मांगी है। वह 25 दिसंबर की बात थी, उसी वक्‍त करण जौहर ADHM की शूटिंग कर रहे थे। ऐसा क्‍यों? ऐसा क्‍यों है कि हर बात हमें यह सब झेलना पड़ता है और आप चुप रहते हैं?? और आपने हमारे टैक्‍स के पैसों पर यात्रा की, जबकि फिल्‍म किसी और की कमाई थी। मैं सिर्फ हालात समझने की कोशिश कर रहा हूं क्‍योंकि मैं बेवकूफ हूं और मुझे यह सब समझ नहीं आता। अगर आपको बुरा लगा हो तो माफ कीजिए।” जाहिर है कश्‍यप दिसंबर 2015 और अक्‍टूबर 2016 का फर्क नहीं समझ पा रहे। तब हालात इतने बुरे नहीं थे और नई-नई सरकार होने के चलते पीएम मोदी पड़ोसी मुल्‍क से दोस्‍ती की पहल करते दिखना चाहते थे। उरी हमले के बाद हालात बदले हैं और देश में पाकिस्‍तान के खिलाफ माहौल बन गया है। आग में घी डालने का काम राजनेताओं ने किया और भुगतना फिल्‍मी कलाकारों और सरकार को पड़ रहा है।

READ ALSO: मधुर भंडारकर का अनुराग कश्यप पर निशाना, कहा- मोदी का विरोध ट्रेंड बन गया

इस पूरे प्रकरण पर मुझे नाना पाटेकर का कुछ दिनों पहले का बयान आता है। उन्‍होंने कहा था, “मेरे लिए मेरा देश सबसे पहले, मैं देश के अलावा किसी को नहीं जानता और न ही जानना चाहता हूं। एक कलाकार देश के सामने बहुत छोटा होता है।” बात पाकिस्‍तानी कलाकारों का समर्थन करने या ना करने की नहीं है, बात ये है कि जब देश की बात है तो आप कैसी बात करते हैं। पाटेकर ने बड़े साफ शब्‍दों में कहा था, “मैं सेना में था। वहां मैंने ढाई साल तक नौकरी की। इसलिए मैं जानता हूं कि कौन हमारा सबसे बड़ा हीरो है। कोई भी हमारे जवानों से बड़ा हीरो नहीं हो सकता है। हमारे सैनिक ही हमारे वास्तविक हीरो हैं।” मुझे नहीं लगता कि इस विवाद को हवा दिए जाने की जरूरत है। सरकार ने पाकिस्‍तानी कलाकारों पर किसी तरह की पाबंदी नहीं लगाई, ऐ दिल है मुश्किल रिलीज भी होगी और अच्‍छी हुई तो लोग देखने भी जाएंगे। ऐसे में जबर्दस्‍ती किसी विवाद में प्रधानमंत्री को घसीट लेना ठीक नहीं लगता।

READ ALSO: नरेंद्र मोदी पर अनुराग कश्यप के बयान पर भड़के गायक अभिजीत, कहा अब आपकी बारी है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 16, 2016 5:38 pm

सबरंग