March 23, 2017

ताज़ा खबर

 

पांच द‍िनों में चार कारणों से कठघरे में खड़े हो गए हैं भाजपा, पीएम नरेंद्र मोदी और अम‍ित शाह

यूपी समेत पांच राज्यों के विधान सभा चुनाव नतीजे आने के बाद भाजपा ने बसपा प्रमुख मायावती को अपशब्द कहने वाले दयाशंकर सिंह को पार्टी में वापस शामिल कर लिया।

नई दिल्ली में लगा भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (आगे) और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का कट आउट। (REUTERS/Cathal McNaughton)

पांच राज्यों के विधान सभा चुनाव के नतीजे आने के बाद इसमें कोई दो राय नहीं रही कि देश में साल 2014 में चली नरेंद्र मोदी की हवा अभी तक चल रही है। बीच-बीच में देश के कुछ राज्यों में ये हवा भले ही कुछ देर के लिए थम गयी हो लेकिन चंद चुनाव बाद ही वो दोबारा पुराने वेग से बहने लगती है। इस बार ये हवा यूपी और उत्तराखंड में तेज रही तो गोवा और मणिपुर में मद्धम और पंजाब में सुस्त बही। लेकिन इन राज्यों में नरेंद्र मोदी की हवा के नतीजे आने के पांच दिनों के अंदर ही पीएम मोदी और और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कई ऐसे फैसले लिए  जिससे उनके कांग्रेस से अलग “चाल, चरित्र और चेहरे” के दावे पर सवाल खड़े होते हैं।

1- बसपा प्रमुख मायावती को अपशब्द करने वाले दयाशंकर सिंह की घर वापसी- नेता कुछ भी कहें आम जनता शायद ही ये माने कि राजनेताओं का नैतिकता से अब कोई रिश्ता बचा है। न अब वो लाल बहादुर शास्त्री रहे जो नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दें और न लालकृष्ण आडवाणी वही रहे जिन्होंने भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर इस्तीफा दे दिया था। भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने राज्य की पूर्व सीएम की तुलना जब वेश्या से की तो सोशल मीडिया पर बवाल मच गया। भाजपा ने खुद को नैतिक साबित करने के लिए तुरंत ही दयाशंकर को छह साल के लिए पार्टी औ पद से हटा दिया। भाजपा के बड़े नेताओं ने तत्काल बयान दिया कि उनकी पार्टी में ऐसी चीजों की कोई जगह नहीं। लेकिन पार्टी की नैतिकता की पहली परत उस समय उघड़ गयी जब उसने दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह को पार्टी की महिला इकाई में पद दे दिया। भाजपा ने फिर स्वाति सिंह को विधान सभा में उतारा और वो चुनाव जीत भी गयीं। चुनाव नतीजे आने के साथ ही भाजपा की नैतिकता की आखिरी परत तब उतर गयी जब दयाशंकर सिंह की भाजपा में घर वापसी हो गयी।

2- तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को बनाया दिल्ली भाजपा का प्रवक्ता – आजकल के तमाम चर्चित नामों की तरह तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को भी हम और आप सिर्फ इसिलए जानते हैं क्योंकि उनका नाम कुछ असभ्य समझे वाले कारनामों में आया। बग्गा पहली बार तब खबरों में आया जब उस पर सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण के साथ मारपीट करने का आरोप लगा। उसके बाद एक समारोह में उसका नाम मशहूर लेखिका अरुंधति रॉय के खिलाफ हुडदंग करने के मामले में उछला। बग्गा का नाम ऐसे ही कुछ और भी मामले हैं लेकिन विधान सभा चुनाव के नतीजे आने से पहले तक भाजपा उससे सीधा रिश्ता मानने से आनाकानी करती थी। चुनाव के नतीजे आते ही पार्टी की दिल्ली इकाई ने उसे प्रवक्ता बना दिया। जाहिर है इससे न केवल बग्गा का बल्कि दिल्ली भाजपा का भी “संस्कार” जगजाहिर हो गया है।

3- गोवा और मणिपुर में सरकार का गठन- यूपी और उत्तराखंड में भाजपा को दो-तिहाई बहुमत मिला। मणिपुर और गोवा में राज्य की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। भाजपा हमेशा दावा करती रही है कि उसके लिए विचारधारा सत्ता से ज्यादा अहम है लेकिन इन राज्यों के नतीजे आने के बाद पार्टी ने मणिपुर और खासकर गोवा में सरकार बनाने के लिए जो “चाल, चरित्र और चेहरा” दिखाया उससे वो कठघरे में खड़ी दिख रही है। गोवा में तो मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने जिन आठ लोगों को अपने साथ मंत्री पद की शपथ दिलायी उनमें से सात भाजपा के नहीं हैं। यानी पर्रिकर सरकार में अभी बहुमत ऐसे मंत्रियों का है जो या तो भाजपा को हराकर सदन में आए हैं या उनके सामने भाजपा मुकाबले में ही नहीं थी।

4- संसद में भी मोदी-मोदी और जय श्रीराम- केंद्र समेत भारत के 15 राज्यों में सरकार होने के नशे में शायद भाजपा ये भूल ही गयी कि भारत अभी भी धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। पांच राज्यों के विधान सभा चुनाव के नतीजे आने के बाद हुए संसद सत्र में जब पीएम नरेंद्र मोदी सदन में पहुंचे तो भाजपा सांसदों ने उनका स्वागत जय श्री राम और मोदी-मोदी के नारों से किया। भाजपा नेताओं के इस कृत्य से भले ही पीएम मोदी और उनके समर्थक और भक्त प्रसन्न हुए हैं लेकिन इससे संसद की गरिमा के प्रति उनके रवैये पर सवाल जरूर खड़ा होता है। पीएम मोदी जब वो पहली बार संसद आए थे तो उन्होंने संसद की सीढ़ियों का “चरणस्पर्श” किया था लेकिन क्या उन्हें संसदीय गरिमा का भी ख्याल है?

वीडियो: लालकृष्ण आडवाणी हो सकते हैं देश के अगले राष्ट्रपति; पीएम मोदी ने सुझाया नाम

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on March 16, 2017 2:23 pm

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग