ताज़ा खबर
 

सुधीश पचौरी के सभी पोस्ट

संकल्प से सिद्धि तक

पंद्रह अगस्त आते ही सभी चैनल तिरंगे हो गए। शाम होते-होते स्वतंत्रता दिवस को कवर करने के लिए कम से कम चार चैनल सीधे...

बाखबर: यह छोड़ो वह छोड़ो

उपराष्ट्रपति चुनाव के नतीजे वाले दिन एक हिंदी चैनल पूरे दिन यह शीर्षक लगाए रहा: ‘कांग्रेस मुक्त भारत’! एंकर कहती थी कि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति...

विदूषक का अंत

हंसाने वालों, हंसी-हंसी में जमाने पर करारा तमाचा जड़ देने वालों यानी विदूषकों, जोकरों, कॉमेडियनों की परंपरा प्राचीन है। संस्कृत नाटकों में विदूषक न...

न था, न है, न होगा

गजब की मिलीभगत लगी चैनलों की कि न चुनाव, न अभियान और रिजल्ट दे दिया नीतीश जी ने कि दो हजार उन्नीस में मोदी...

बाखबरः टैंक प्रेम लाना

बिहार के ‘मोर्चा उखाड़’ को लेकर हर चैनल प्रसन्न लाइन देता था कि यह घर वापसी है... यह घर वापसी है। हिंदी चैनल घर...

सुबह विपक्ष नाराज होता है, दोपहर बाद सीरियस हो जाता है!

एआइबी की फुलफार्म इतनी गंदी है भाईसाब कि मैं टीवी पर बोल तक नहीं सकता। इनको हवा क्यों देते हो।

फुंदनों की लीला

कोसने से बचाया तो उस आक्रमित बस के ड्राइवर सलीम शेख ने बचाया। वह सभी चैनलों का हीरो था। सब उसे सलाम करते थे।...

शहर और सह-सांस्कृतिकता

स्मार्ट शहर यानी हर तरह से सुविधासंपन्न और साफ-सुथरे शहर बनाने की योजना पर काम चल रहा है। मगर पुराने शहरों की पहचान और...

बाखबर: साझी जगह

जब तीन-तीन अंगरेजी चैनल मामूली भाषाई विवाद को भाषा युद्ध की तरह बनाते रहेंगे तब वह भाषा युद्ध क्या न बनेगा? यही हुआ! एंकर...

बाखबर- गोरक्षक, शर्तें लागू

कांग्रेसी कब समझंगे कि यह तमाशे का ही जमाना है। तमाशा ही असली चीज है। टैक्स लगाओ, मगर गा-बजा कर, तो वह पीड़ा कम...

दरवाजा बंद करो बीमारी बंद

मोदी जी ने हमें दो बडे ‘सामाजिक संबोधन’ दिए। एक: ‘सवा सौ करोड़ देशवासी’। दूसरा: ‘पैंसठ फीसदी आकांक्षी युवा’।

बाखबर- दलित विमर्श का जलवा

कई चरचाकार रामनाथ की जीत के प्रति इतने आश्वस्त दिखते हैं कि उनको ‘केंडीडेट’ की जगह सीधे नए ‘राष्ट्रपति’ बोल देते हैं!

बाखबर- दादी मां के नुस्खे

एक चैनल लालू के पीछे पड़ा है। एक ‘डॉक्टर डैथ’ के पीछे लगा है। एक माल्या को धर लेने के लिए अड़ा है। अगर...

बाखबर- हैपी देश में हाय हाय

केंद्रीय कृषिमंत्री राधामोहन सिंह जब रामदेव के साथ योग साधना करते दिखे, तो टाइम्स नाउ ने लाख रुपए की लाइन लगाई: किसान खाएं बुलेट,...

फिर भी वही उदासी!

जीडीपी के गिरने की खबर जैसे ही टूटी, सबने धांय करके ब्रेकिंग न्यूज बना डाली कि अनुमान से नीचे, बहुत नीचे आया जीडीपी! सौजन्य...

बाखबर, सुधीश पचौरी का लेख: जो भरा नहीं है भावों से

पाक पर फिर सर्जिकल स्ट्राइक/ सर्जिकल स्ट्राइक नंबर दो/ भारतीय सेना ने पाक के नौशेरा में गोले दागे/ परमजीत प्रेमसागर का बदला लिया/ देशभक्तों...

बाखबर: सच्ची खुशी कभी कभी

हेग अदालत के फैसले पर इस कदर वीरता बरसी कि किसी को जरा-सा भी किंतु परंतु गवारा नहीं था, जबकि कई पैनलिस्ट जानते थे...

कंपटीशन का बाजार गरम है

अंग्रेजी चैनल सीएनएन न्यूज अठारह में ‘हिंदू युवा वाहिनी’ की एक दिन की एक हिंसक कथा कही जा रही थी, लेकिन स्क्रीन पर बड़े-बड़े...

सबरंग