April 28, 2017

ताज़ा खबर

 

शशिप्रभा तिवारी के सभी पोस्ट

समकालीन नृत्यों पर उदयः नृत्य रचना मृत मूरत

आधुनिक की ओर से नृत्य समारोह उदय-6 का आयोजन किया गया।

गीता चंद्रन का भरतनाट्यम नृत्य, शब्द और भाव की परतें

धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में मुकदमा दर्ज होने के बाद संभल कूच का ऐलान करने वाले एक क्षेत्रीय समाचार चैनल के मुख्य महाप्रबंधक...

तकनीक के शहर में संस्कृति की तान

दिल्ली से सटे गुरुग्राम में पिछले दिनों गुरुग्राम उत्सव का आयोजन किया गया। इसका आयोजन नृत्य धारा और आश्रय ने किया था।

‘मैं ही परंपरा बन गई’

कथक नृत्यांगना रचना यादव ने अपने करियर का एक लंबा सफर तय किया है। कथक नृत्यांगना अदिति मंगलदास की नृत्य रचना देखकर वे काफी...

नृत्य में अर्धनारीश्वर की प्रस्तुति

ओ डिशी नृत्य के जानेमाने गुरु केलूचरण महापात्र के 91वें वर्षगांठ पर आयोजित दो दिसवीय समारोह अंतरदृष्टि में महापात्र और रतीकांत महापात्र की नृत्य...

नृत्य में बाल कृष्ण के नटखट रूप

स्पीक मैके की ओर से विरासत शृंखला के तहत ओड़िशी नृत्यांगना इलियाना सिटारिस्टि ने मॉडर्न स्कूल में नृत्य पेश किया।

संगीत: कला में नयापन

उषा आरके के माता-पिता चाहते थे कि बचपन में वह कर्नाटक संगीत सीखें।

शशिप्रभा तिवारी का लेखः कोणार्क कांति की छटा

गुरु गंगाधर प्रधान ने ओड़ीशी की गुरु-शिष्या परंपरा को काफी दुरुस्त किया था। उनकी शिष्या अनिता बाबू ने उसी परंपरा का अनुसरण किया। पिछले...

नृत्या- कथक में पार्वती के सौंदर्य की प्रस्तुति

पिछले दिनों गांधर्व महाविद्यालय में दो दिवसीय नृत्य समारोह का आयोजन किया गया।

नृत्यः शिव के रूपों की सजीव शाम

इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में शिव क्षेत्र नृत्य रचना का आयोजन किया गया।

शशिप्रभा तिवारी की रिपोर्ट : कैसी लीला प्रभु अब दर्शन दे दो

पिछले दिनों दो दिवसीय नृत्य समारोह इंडिया हैबिटाट सेंटर में ‘सारे जहां से अच्छा’ में ओडिशी, कथक, मोहिनीअट्टम और मणिपुरी नृत्य पेश किया गया।

शशिप्रभा तिवारी की रिपोर्ट: कामदेव के पुष्प वाणों से व्यग्र नायिका के भाव

चिन्मय मिशन में आयोजित अरंगेत्रम समारोह में नृत्यांगना अदिति बालासुब्रहम्णयन ने प्रस्तुति दी। उन्होंने नृत्य का आरंभ अलरिपु से किया।

नृत्यः ए री सखी आज घेर लो श्याम को

कथक नृत्यांगना टीना तांबे ने पिछले दिनों इंडिया हैबिटाट सेंटर में आयोजित समारोह में नृत्य पेश किया। उन्होंने शिव स्तुति ‘आंगिकम भुवनम’ से नृत्य...

नृत्य में देवी रूपों का दर्शन

पिछले दिनों इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में रंगप्रवेशम का आयोजन किया गया। इस आयोजन में नृत्यांगना प्रतिभा प्रह्लाद की शिष्या कामाख्या मिश्र ने अपनी पहली...

अपनी गरज पकड़ लीन्हीं

इंडिया हैबिटाट सेंटर में संवाद और प्रदर्शन के कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इसमें गायिका नीता माथुर ने गायन पेश किया।

चमकन लागे बिजुरी…

पिछले दिनों कमानी सभागार में शास्त्रीय संगीत समारोह ‘कंसर्ट फॉर हारमनी’ का आयोजन किया गया। यह नाद फाउंडेशन, संस्कृति मंत्रालय और इंडिया हैरिटेज डेस्क...

‘नृत्य’ कॉलम में शशिप्रभा तिवारी का लेख : कृष्ण लीला की मोहक छवि

केरल के गुरु वायवुर मंदिर में सोपान संगीत शैली में अष्टपदी को गाया जाता है। उसी शैली में अष्टपदी को गायक ने गाया था।...

नृत्य : कथक में पारलौकिक संसार का चित्रण

कथक में परंपरागत बंदिशों, ठुमरी, दादरा, कविता के इतर नई रचनाओं और नई कविताओं को भी कुछ कलाकार नृत्य में पिरो रहे हैं। यह...

सबरंग