June 23, 2017

ताज़ा खबर
 

सदगुरु स्वामी आनन्द जौहरी के सभी पोस्ट

परमाणु युद्ध हुआ तो भारत को होगा कम नुकसान, जानिए क्यों

परमाणु युद्ध की सूरत में भारत के आध्यात्मिक विज्ञान की क्या होगी भूमिका, इसका गहन विश्लेषण कर रहे हैं, सदगुरु स्वामी आनन्द जी।...

वो तो तुमसे जुड़ना चाहते हैं पर क्या तुम उनमें अंगीकार होना चाहते हो?

जब हम एक दूसरे को देखते हैं तो मेरे तुम्हारे बीच में एक रेखा खिंच जाती है। यदि तुम और मैं एक लकीर में...

जीवन ऐसा मत बनाओ जैसे वाई-फाई की रेंज में हो डिवाइस और पासवर्ड पता न हो

यदि तुम्हें ऐसा महापुरुष मिले जो ऊपर के रहस्य जानता हो, ऊपर जाता आता हो और तुम्हारा परिचय तुम्हारे से करा दे, ऊपर की...

आखिर मृत्यु से क्यों घबराता है इंसान

मृत्यु मात्र आपकी देह का अवसान है, आपका नहीं।

सूर्य के मेष में प्रवेश से हर राशि पर पड़ेगा असर, जानें- आप पर क्या होगा प्रभाव ?

ज्योषियों के अनुसार सूर्य का गृह परिवर्तन का सबसे ज्यादा असर मेष,वृष और मिथुन राशि वालों पर पड़ सकता है।

बुद्धादित्य राजयोग में होगा 2017 का आगाज, साल के आखिर में फिर घिरेंगे नरेंद्र मोदी

26 जनवरी, 2017 को जब शनिदेव अपने बासठ चन्द्रमाओं के साथ अपना घर बदलेंगे जिससे कई सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे।

दिवाली 2016: धन, धन्वन्तरि और धनतेरस

Dhanteras 2016: भगवान धन्वंतरि को हिंदू धर्म में देव वैद्य का पद हासिल है। कुछ ग्रंथों में उन्हें विष्णु का अवतार भी कहा गया...

करवा चौथ हो या तीज, शिवरात्रि, नवरात्रि…व्रत के मूल नियमों की सीमारेखा तोड़ रहे हैं उपवास

ऐसा ही बंटाधार हमने व्रत की समृद्ध अवधारणा का किया। व्रत, यानि संकल्प। संकल्प के साथ किया गया प्रत्येक कर्म व्रत कहलाता है।

जीवन को नवीन ऊर्जा से सराबोर कर देती हैं नवरात्र की नौ रात्रियां

जंबूद्वीप के भारत खण्ड में अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक का समय नवरात्रि यानि अहोरात्रि के रूप में मनाये...

सिर्फ़ मरे हुए लोगों का काल नहीं है पितृपक्ष, श्राद्ध का संबंध खुद के अस्तित्‍व से जुड़ने से भी है

श्रावण मास से मार्गशीर्ष तक सम्पूर्ण विश्व में कोई न कोई त्योहार या पर्व मनाया जाता है। त्योहार से आशय किसी उत्सव से है...

जानिए, किस चीज से निर्मित गणेश प्रतिमा से मिलती है संपत्ति, किससे सौभाग्‍य और किससे होता है शत्रुता का नाश

समस्त गण यानी इंद्रियों के अधिपति हैं महागणाधिपति. गणेश आदि देव और जल तत्व के प्रतीक हैं. विनायक कहीं बाहर नही हमारे भीतर, सिर्फ़...

ग्रहों की दशा: आर्थिक मोर्चे पर नरेंद्र मोदी के लिए खराब वक्‍त, अंतरराष्‍ट्रीय पटल पर होगी वाहवाही

लग्न के राहु और सप्तम के केतु के मध्य समस्त ग्रहों की उपस्थिति भारत को 'अनन्त' नामक काल सर्प योग से ग्रसित करती है।...

दलित नहीं था महिषासुर, पढ़ें असुरों के राजा के बारे में कई और रहस्‍य

ऋग्वेद के छठे मंडल के 27वें सूक्त में वरशिखा नामक "असुर" का उल्लेख मिलता है। जिनके नगर का उल्लेख "इरावती" या "हरियूपिय" के रूप...

सबरंग