ताज़ा खबर
 

पंकज चतुर्वेदी के सभी पोस्ट

रसायनों से जहरीली होती जमीन

दवा का जहर किसानों के शरीर में समा गया। कई की आंखें खराब हुर्इं तो कई को त्वचा रोग हो गए। हमारे देश में...

दुनिया मेरे आगेः बस्ते के बोझ से दबी शिक्षा

आज छोटे-छोटे बच्चे होमवर्क के खौफ में जीते हैं। जबकि यशपाल समिति की सलाह थी कि प्राइमरी कक्षाओं में बच्चों को गृहकार्य सिर्फ इतना...

मुक्त मंडी और हाट-बाजार

पहले कहा जाता था कि भारत गांवों में बसता है और उसकी अर्थव्यवस्था का आधार खेती-किसानी है, लेकिन मुक्त अर्थव्यवस्था के दौर में यह...

राजनीतिः नदी जोड़ योजना पर पुनर्विचार जरूरी

जब नदियों को जोड़ने की योजना बनाई गई थी, तब देश व दुनिया के सामने ग्लोबल वार्मिंग, ओजोन क्षरण, ग्रीनहाउस प्रभाव जैसी चुनौतियां नहीं...

कविताएं: दुख आता है तो शायद

पंकज चतुर्वेदी की कविताएं।

दफ्न होते दरिया की दास्तान

इस बार बारिश तो ठीक-ठाक हुई थी, लेकिन बुंदेलखंड, तेलंगाना, मराठवाड़ा, बस्तर जैसे इलाके मार्च समाप्त होते-होते पानी के लिए हांफने लगे हैं।

राजनीतिः किनारों को खाते समुद्र

देश के दक्षिणी राज्यों कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु में समुद्र तट पर हजारों गांवों पर इन दिनों सागर की अथाह लहरों का आतंक मंडरा...

कविताएं: तरीका, करीब

पंकज चतुर्वेदी की कविताएं।

यमुना का यह हाल क्यों है

संसदीय समिति ने भी कहा था कि यमुना सफाई के नाम पर व्यय 6500 करोड़ रुपए बेकार हो गए हैं क्योंकि नदी पहले से...

नक्सली समस्या की जड़ें

ताजा जनगणना बताती है कि बस्तर अंचल में आदिवासियों की जनसंख्या ना केवल कम हो रही है, बल्कि उनकी प्रजनन क्षमता भी कम...

राजनीति: नगर नियोजन के नए तकाजे

पिछले दो महीनों के दौरान प्रत्येक महानगर की चकाचौंध और विकास की जमकर पोल खुली।

पंकज चतुर्वेदी का लेख : बंजर होती धरती

जलभराव के कारण किसानों को ज्वार, कपास, बाजरा, सरसों, चना आदि फसलों का फायदा नहीं मिल पा रहा और जमीन के बंजर होने का...

विवादों के जाल में मछुआरे

दो महीने पहले रिहा हुए पाकिस्तान के मछुआरों के एक समूह में एक आठ साल का बच्चा अपने बाप के साथ रिहा नहीं हो...

उपज की कीमत बनाम मुआवजा

क्या अजीब विरोधाभास है कि एक तरफ किसान फसल नष्ट होने पर मर रहा है तो दूसरी ओर अच्छी फसल होने पर भी उसे...

कविताएं : बिंब-प्रतिबिंब

बिंब-प्रतिबिंब: अगर बगैर काम-काज के, संसद चल रही है, तो राज्य की, अन्य संस्थाएं भी

राजनीतिः पर्यावरण, समाज और सरकार

महाराष्ट्र के लातूर में पानी की कमी से पलायन, झगड़े व सरकारी टैंकरों की लूट जैसी अराजकता मची है। वहीं होली पर पानी की...

राजनीतिः तालाबों को बचाने की खातिर

तालाब कहीं कब्जे से, कहीं गंदगी से तो कहीं तकनीकी ज्ञान के अभाव से सूख रहे है। कहीं तालाबों को गैर-जरूरी मानकर समेटा जा...

परीक्षा और सीखने की प्रक्रिया

क्या किसी बच्चे की योग्यता, क्षमता और बुद्धिमत्ता का पैमाना महज अंकों का प्रतिशत ही है? वह भी उस परीक्षा प्रणाली में, जिसकी स्वयं...

सबरंग