ताज़ा खबर
 

मुकेश भारद्वाज के सभी पोस्ट

बेबाक बोलः देश बदल रहा है

देश बदल रहा है...। इतनी तेजी से बदलेगा सोचा न था। उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री चुने जाने के बाद एक सांसद के रूप में...

बेबाक बोलः सियासत का संदेश

भाजपा से नाता टूटने के बाद हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला से सवाल पूछा गया था कि क्या उनके भाजपा के साथ...

अल्प विस्मृति की शिकार तो नहीं भाजपा!

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने छेड़छाड़ के आरोपी विकास बराला के पिता सुभाष बराला के पक्ष में उतरते हुए कहा कि इस...

अली अनवर: यह तो तख्तापलट जैसा हो गया!

किसान खुदकुशी कर रहे हैं, लव जेहाद चल रहा है। घर वापसी, गोरक्षा वगैरह के नाम पर उत्पात मचाया जा रहा है। इस सब...

बेबाक बोलः जब तोप मुकाबिल हो..

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी, नए दौर में लिखेंगे, मिलकर नई कहानी...नेहरूकाल का यह फिल्मी गीत नेहरू मॉडल का सार है।...

बेबाक बोलः संपूर्ण भ्रांति- अबकी बार बिहार

2014 के लोकसभा चुनावों के बाद जब नरेंद्र मोदी भारतीय राजनीति के एक नए ब्रांड के रूप में उभरे तो मोदीवाद के अश्वमेध घोड़े...

बेबाक बोलः महागुन के मायने

आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी लागू करते वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे गरीबों के हित में बताया था।

बेबाक बोलः राज और समाज- अमरनाथ से आगे

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले पर ‘कड़ी निंदा’ की जगह तारीफ कर बैठते हैं। वे कश्मीरियत की बात करते...

बेबाक बोल- हिंदी, हिंदु और हिंदुस्तानः हिंदी है तो हिंदु

अमेरिका में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हिंदी संबोधन की अपनी-अपनी व्याख्या हो रही थी। मैंने एक सहयोगी से कहा कि मोदी का हिंदी में...

बेबाक बोलः भीड़ का भय- तेरा नाम सिन्ना है…

‘मैं सच कह रहा हूं, मेरा नाम सिन्ना है’। भीड़ का पहला आदमी कहता है कि वह षड्यंत्रकारी है, उसके टुकड़े कर डालो। ‘मेरा...

बेबाक बोलः पहचान के पत्ते- जाति और राजनीति

कोविंद और कुमार के इस टकराव ने राष्ट्रपति चुनाव को दिलचस्प तो बना दिया है। फिलहाल अंकशास्त्र कोविंद के पक्ष में भले दिख रहा...

GST: ई-वे बिल व्यवस्था लागू होने में हो सकती है देरी, लागू करने पर मतभेद, तैयारी अधूरी

ई-वे बिल के तहत सामान की आवाजाही के दौरान कागजी बिल बाकी की जरूरत नहीं होगी। यह बिल कोई भी व्यापारी या मौके...

बेबाक बोलः धर्म भूमि- विकल्प बिना संकल्प!

गोरखपुर के गोरक्षनाथ मंदिर के महंत ने मुख्यमंत्री बनने के बाद एक सांसद के रूप में अपने आखिरी भाषण में संसद में कहा था...

रॉबर्ट वाड्रा सोनिया गांधी के दामाद हैं, वीआईपी हैं, ये सोच कर अफसरों ने बिना ज्यादा जांच के ही दे दिया था कॉलोनी बनाने का लाइसेंस

सूत्रों के अनुसर किसी भी कंपनी की निर्माण क्षमता का मूल्यांकन करना उसे कॉलोनी बनाने का लाइसेंस देने के लिए जरूरी सबसे महत्वपूर्ण मानकों...

बेबाक बोलः सत्ता का संदेश- जय किसान जवान

वित्तीय और आर्थिक संकट जब सामाजिक संघर्ष में बदल रहा हो तो ऐसे दौर में डिजिटल नायक की भूमिका पर इस बार का बेबाक...

बेबाक बोलः रोजी बनाम राम- एकै साधे सब सधे

सरकार से लेकर अदालत तक में सच को परे रख भ्रमजाल बुनने के इस समय पर बेबाक बोल।

धर्मविहीन राजनीति विनाशकारी है: हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत

मेरी निजी राय है कि बिना धर्म के राजनीति विनाशकारी है। लेकिन, इसके साथ ही मैं यह कहना चाहूंगा कि पहले यह समझें कि...

राष्ट्रवादी विश्वविद्यालय है जेएनयू

चाहे वह वामपंथी हों या दक्षिणपंथी, हम सभी देश के लिए काम करते हैं। हमारे विचार भिन्न हो सकते हैं, हमारे काम करने...

सबरंग