March 28, 2017

ताज़ा खबर

 

मुकेश भारद्वाज के सभी पोस्ट

बेबाक बोल- धर्मक्षेत्रे संघक्षेत्रे…

ऐतिहासिक जनादेश के अपने-अपने पाठ हैं। जनादेश की ऐतिहासिक मशाल थामे योगी आदित्यनाथ का क्या संघ के सपनों से कोई नाभिनाल संबंध है?

बेबाक बोलः पहचान की परतें- उत्तर सत्य

उत्तर प्रदेश में चुनावों के पहले एक कार्यक्रम में नरेंद्र मोदी ने बॉब डिलन का उदाहरण देते हुए कहा कि वे परिवर्तन के वाहक...

ग्वाल पहाड़ी विवाद: अमिताभ कांत ने भी हरियाणा सरकार को लिखा था सिफारिशी पत्र, मामले को जल्द निपटाने के लिए कहा था

ग्वाल पहाड़ी की जमीन का मामला है जिसको लेकर हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार को न सिर्फ विपक्ष वरन अपने लोगों से...

तख्तापलट!

लोकतंत्र में एक पारंपरिक अवधारणा रही है कि शक्ति और सुरक्षा हासिल करने के लिए कमजोर और हाशिए पर खड़े लोग एकजुट होते हैं।

बेबाक बोलः सिकुड़ता सच- बे-साख

हॉलीवुड अदाकारा मेरिल स्ट्रीप ने गोल्डेन ग्लोब पुरस्कार समारोह में अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर निशाना साधा तो दुनिया भर में उनके...

सहभागी पत्रकारिता का एकमेव प्रहरी

जब विभिन्न विचारधाराओं की सरकार और मुख्यधारा का मीडिया अपने-अपने हिसाब से मंदिर-मस्जिद विवाद का कारोबार कर रहा था तो ‘जनमोर्चा’ के छापेखाने से...

बेबाक बोलः लब-ओ-लुआब- लबों पर लगाम

लंदन स्कूल आॅफ इकोनॉमिक्स में वित्त मंत्री अरुण जेटली से स्मृति ईरानी के पूर्व महकमे से जुड़ा सवाल पूछा गया, यानी दिल्ली के रामजस...

बेबाक बोलः बरसाती- संघम् शरणम्

पहचान की राजनीति के दौर में आलोचनाओं की बारिश की आशंका हो तो ‘रेनकोट’ यानी बरसाती एक बुनियादी जरूरत है।

बेबाक बोलः पंच परमेश्वर- आस्था और असलियत

हर की पैड़ी पर अगरबत्ती, कपूर की खुशबू और मंदिरों की घंटियों की गूंज बरबस आपको आध्यात्मिक माहौल में खींचती है। पर वहां से...

बेबाक बोलः पंच परमेश्वर- बागी बयार

खेतों में हरियाली क्रांति और कारखाने का चलता चक्का। पूंजी और पसीने के मेल ने पंजाब की एक खुशहाल जमीन तैयार की जो बाद...

मुस्लिम मतदाताओं का मन, सपा और बसपा के बीच कड़ा मुकाबला

हिंदुस्तान की सियासत में उत्तर प्रदेश का केंद्रीय महत्त्व है तो उत्तर प्रदेश में मुसलमानों का। सत्ताधारी सपा और मुख्य विपक्षी बसपा को लेकर...

बेबाक बोलः पंच परमेश्वर- बाखर

14 मई, 2014 को हिंदुस्तान में सत्ता बदलने के साथ सियासत के बहुत से समीकरण भी बदले।

बेबाक बोल-बे-मिसाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक मामले में तो अपना लोहा मनवाते हैं। वे सब कुछ ऐसी मिसाल के साथ करते हैं कि वह बेमिसाल का...

बेबाक बोलः किताबगीरी- छापाखाना

डिजिटल गान के बरक्स छापेखाने की जिजीविषा पर इस बार का बेबाक बोल। इस बार दो टिप्पणियां ऐसी हैं जो पहले सोशल मीडिया पर...

बेबाक बोलः पंच परमेश्वर- चेहराबदली

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल में अपने एक ट्वीट में शिकायती लहजे में कहा कि टीवी चैनल सीएनएन ने अपनी किताब के...

बेबाक बोलः नगद नारायण कथा- गोबर गाथा

ऐतिहासिक नोटबंदी के 50 दिन पूरे होने पर जब सरकार के नुमाइंदे क्रिकेट के मैदान में छक्का लगने के बाद रिबन लहराते हुए ‘चीयर...

बेबाक बोल कॉलमः नगद नारायण कथा- चौराहा

भारत में नोटंबदी की तर्ज पर वेनेजुएला में करंसी नोट वापस लिए जाने का फैसला किया गया था लेकिन वहां की जनता के प्रचंड...

बेबाक बोलः नगद नारायण कथा-अह्म ब्रह्मास्मि

सत्ता जब ‘अहम् ब्रह्मास्मि’ की तरह बात करने लगे कि हमें जो ठीक लगे वही करेंगे तो लोकतंत्र का आधार बनी आम जनता के...

सबरंग