ताज़ा खबर
 

दिनेश शाक्य के सभी पोस्ट

इटावा-‘महानायक’ के नाम पर बने सरकारी स्कूल में नहीं मनाया जाता जन्मदिन

इटावा जिले के सैफई गांव स्थित इस स्कूल के छात्रों को यह भी पता नहीं कि महानायक का बुधवार को जन्मदिन भी है। स्कूल...

उत्तर प्रदेश; इत्रनगरी के किसान हुए जीएसटी से हलकान

कन्नौज में 80 फीसद लोग इत्र के कारोबार से प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से जुड़े हुए हैं। यहां इत्र बनाने की करीब 300...

योगी सरकार ने रोकी अखिलेश की सारस संरक्षण केंद्र योजना

अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री रहते हुए सारस पक्षियों की घटती हुई संख्या को देखते हुए यह निर्णय लिया था क्योंकि इटावा और मैनपुरी मे...

सैफई आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के सालाना बजट पर योगी सरकार की कैंची

अखिलेश सरकार में यहां बजट की कभी कमी नहीं रही लेकिन भाजपा की सरकार बनते ही अधिकारियों की प्राथमिकता सूची से सैफई का नाम...

जनकवि शिशु की मूर्ति को है दो फुट जमीं की दरकार

देश का पहला राष्ट्रपति पुरस्कार इटावा को दिलाने वाले शिशु का आज कोई पुरसाहाल नहीं है।

बातचीतः पिया के बहाने टूट रही है चंबल की बदनाम छवि

सबसे पहले हिंदी भाषा में बनी खोसला का घोसला की तमिल भाषा में बनी रीमेक में शीर्ष रोल किया।

फिल्मकारों को आज भी खींचते हैं चंबल के बीहड़

आज भी फिल्मकारों का मोह चंबल के बीहड़ों से है । खूंखार डाकुओं की शरणस्थली चंबल घाटी दशकों से सिनेमाई फिल्मकारों के आकर्षण का...

इटावा: मृत परिजनों को दफनाने के लिए नहीं है कब्रिस्तान, घर में ही बन रही है कब्र

सुशीला बेगम अपने घर मे बनी कब्रों के बारे में बताते हुए वे फूट-फूट कर रोते हुए बताती हैं कि वैसे तो कोई अपना...

मुगले आजम- संकरी गलियों में आज भी आसिफ के चर्चे

दुस्तान की कालजयी फिल्म मुगले आजम के निर्देशक के आसिफ की काबिलियत की चर्चा आज भी उनकी जन्म स्थली में होती है।

इटावा: चंबल में अब दस्यु नहीं, अजगर डराते हैं

इटावा में अजगर इस कदर निकल रहे हैं मानो यह इलाका देश दुनिया का सबसे बड़ा उनका बसेरा बन गया हो।

घायल गायों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं हैं जफरुद्दीन, 500 से ज्यादा गायों की कर चुके हैं मरहम पट्टी

डॉक्टर के पर्चे को लेकर किसी व्यापारी के पास जाते हैं और दवा खरीदने की गुहार लगाते है। इस तरह भी दवा का इंतजाम...

क्या सचमुच चंबल इलाके में हिमालयी गिद्ध बना रहे हैं बसेरा!

8 करोड़ 50 लाख थी अस्सी के दशक में गिद्धों की संख्या। जो अब घटकर तीन हजार रह गई है।

पांच नदियों का संगम पंचनदा पहचान का मोहताज, लेकिन अब बदल सकती है तकदीर और तस्वीर

पांच नदियों का संगम उत्तर प्रदेश में इटावा जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर बिठौली गांव में है।

स्वच्छ भारत मिशन: सफाई में सैफई का कोई सानी नहीं

मुलायम सिंह यादव के गृहनगर सैफई में इस मेडिकल यूनिवर्सिटी में वैसे तो मरीजों की सेवा की हर ओर चर्चा होती है लेकिन...

इटावा- बेखौफ अपराधियों ने बिगाड़े हालात

इटावा की बात करें तो यहां इतने ज्यादा अपराध शायद ही कभी हुए हों, जितने भाजपा सरकार में हो चुके हैं।

CM नीतीश कुमार को भाया इटावा का सफारी पार्क, इसी तर्ज पर बनाएंगे राजगीर पर्यटन केंद्र

नीतीश कुमार को अखिलेश यादव के गृहनगर इटावा स्थित सफारी पार्क इतना भाया है कि वह बिहार में अपने निर्वाचन क्षेत्र नालंदा जिले के...

इटावा- क्वारी नदी के सूखने से मचा पानी के लिए हाहाकार

चंबल के बीहड़ से होकर गुजरने वाली पांच नदियों में से एक क्वारी नदी का पानी मध्यप्रदेश के दंबग किसानों द्वारा लंबे समय से...

संकटग्रस्त इंडियन स्कीमर से आबाद है चंबल की शान!

तीन राज्यों मे पसरी राष्ट्रीय चंबल सेंचुरी दुर्लभ घड़ियाल, मगरमच्छ और कछुओं सहित अन्य जलीय जीवों के लिए संरक्षित है, लेकिन यहां एक ऐसा...

सबरंग